BREAKING NEWS

< >
PREV ARTICLE

कूलिंग चार्ज के नाम पर ग्राहकों को लूट रहे दुकानदार, बिक रहे नकली पेय

NEXT ARTICLE

गरीब को हटा कर हो रहा दुकानों का निर्माण

अतिथि शिक्षकों को भी संविदा शिक्षक बनाने पर विचार करो: हाईकोर्ट

Published: 2015-06-03 04:09 PM IST

 

जबलपुर, 03 जून  मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने स्कूल शिक्षा विभाग को निर्देश दिए हैं कि कई वर्षों से विभाग में सेवा दे रहे अतिथि शिक्षकों को भी गुरूजी की भांति संविदा शिक्षक बनाने के लिए दिए गये उनके अभ्यावेदन पर तीन माह के अंंदर विधि अनुसार विचार कर निर्णय लिया जाए। जस्टिस जेके माहेश्वरी की अवकाशकालीन एकलपीठ ने मप्र अतिथि शिक्षक संघ के कटनी जिला अध्यक्ष हेंमत तिवारी सहित नौ अतिथि शिक्षकों की याचिका का निराकरण करते हुए ये निर्देश दिए।


    तिवारी सहित अन्य ने याचिका में कहा था कि वे सभी लोग बीते कई साल सें स्कूल शिक्षा विभाग में बतौर अतिथि शिक्षक कार्य कर रहे हैं। उन्हीं के समान कार्य करने वाले गुरूजीओं को २०१२ में बतौर संविदा शिक्षक नियुक्त कर दिया गया, लेकिन उन्हें वह लाभ नहीं दिया जा रहा है। याचिकाकर्ताओं की ओर से कोर्ट को बताया गया कि शेक्षणिक योग्यता, अनुभव व अन्य अर्हताओं को देखते हुए उन्हें भी संबिदा शिक्षक के पद पर नियुक्ति किया जाना चाहिए।

 

कोर्ट को बताया गया कि इस मसले पर याचिकार्ता संघ लगातार आला अफसरों व जनप्रतिनिधियों को अभ्यावेदन दे रहा है, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हो रही है। सुनवाई के बाद कोर्ट ने याचिकार्ता को कहा कि वे स्कूल शिक्षा विभाग प्रमुख सचिव को इस संबंध में अभयावेदन दे। स्कूल शिक्षा विभाग प्रमुख सचिव को कोर्ट ने निर्देश दिय कि वे तीन माह के अंदर याचिकर्ताओं के अभ्यावेदन पर नियमों की रोशनी में विचार कर कार्रवाई करें।

STAY IN TOUCH!

LATEST NEWS